प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ. Blogger द्वारा संचालित.
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है जहां आपके प्रगतिशील विचारों को सामूहिक जनचेतना से सीधे जोड़ने हेतु हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं !

गीत

बुधवार, 1 फ़रवरी 2012


पूस की ठिठुरन
भाष्कर की बाट तके दिन

भोर अलसायी सी
उनीदीं अखिंया लिये
धुन्ध का दुशाला  ओढे
कँपकँपाती सी चले
सकुंचायी जैसे नवेली दुलहिन

अनमने से वृ्क्षों ने
किये ओस स्नान
वन के वाशिन्दे भी
कापंते अधरों से
कर रहे प्रात गान
गरीबी का ओढना बन
दिवाकर दरस दो बदली बिन

मनेगी कैसे सक्रान्ती
फैलाओगे गर न कान्ती
अवनि पर आ विराजो
रश्मी रथ पर हो सवार
अपने तेज पुन्ज से
करो पशु प्राणियों का उपकार
सांझ को निगलता कोहरे का जिन्न्।


एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

भारतीय ब्लॉग्स का संपूर्ण मंच

join india

Blog Mandli

  © Blogger template The Professional Template II by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP