प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ. Blogger द्वारा संचालित.
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है जहां आपके प्रगतिशील विचारों को सामूहिक जनचेतना से सीधे जोड़ने हेतु हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं !

सपनों की नदी और मछली

शुक्रवार, 18 फ़रवरी 2011



उसकी आँखों में सपनों की
एक नदी बहती थी
रंगबिरंगी मछलियाँ डुबकियां लेतीं
कोई अनचाहा मछुआरा मछलियाँ न पकड़ ले
जब तब वह अपनी आँखें
कसके मींच लेती...
....
एक दिन -
किसी ने बन्द पलकों पर उंगलियाँ घुमायीं
और बड़ी बड़ी आँखों ने देखना चाहा
कौन है .....
और पलक झपकते
सपनों की नदी से
छप से एक मछली बाहर निकली
मछुआरे ने उसे अपनी आँखों की झील में डाला
और अनजानी राहों पर चल पड़ा....
....
अनजानी राहों के लौटने के इंतज़ार में
सपनों की नदी
कभी सूखी नहीं
ना ही फिर किसी मछुआरे से
अपनी रंगीन मछलियों का सौदा किया
हर अजनबी आहट पर
कसके अपनी आँखें मींच लीं ...
...
यशोधरा के मान से कम उसका मान नहीं
मानिनी सी करती है इंतज़ार
उस मछुआरे का
जिसकी आँखों में
उसकी एक मछली आज भी तैर रही है !

8 comments:

सुनील गज्जाणी 18 फ़रवरी 2011 को 1:31 pm  

namskaar
behad sunder abhivyakti , behad sunder bhaav !
pasand aayi rachna ,
sadhuwad !

वन्दना अवस्थी दुबे 18 फ़रवरी 2011 को 1:39 pm  

एक बार और जाल फेंक रे मछेरे
जाने किस मछली में बंधन की चाह हो...
सुन्दर,

रवीन्द्र प्रभात 18 फ़रवरी 2011 को 2:26 pm  

बड़ी मासूम है यह अभिव्यक्ति, रचनाकार शब्दों से उसीप्रकार खेलता दिखाई दे रहा है जिसप्रकार कोई भोला बच्चा अपनी मान से खेलता है, बहुत सुन्दर !

ब्रजेश सिन्हा 18 फ़रवरी 2011 को 2:33 pm  

अच्छी लगी यह कविता, आभार आपको रश्मि जी...

मनोज पाण्डेय 18 फ़रवरी 2011 को 2:35 pm  

कविता नहीं जीवन की सच्चाई है यह

सदा 18 फ़रवरी 2011 को 3:21 pm  

यशोधरा के मान से कम उसका मान नहीं
मानिनी सी करती है इंतज़ार
उस मछुआरे का
जिसकी आँखों में
उसकी एक मछली आज भी तैर रही है !

हर शब्‍द का अहसास अद्भुत है ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

firoj khan 13 मार्च 2011 को 6:34 pm  

kavita to bahut achchi he rashmi ji, lekin esi bhi kya bechargi ki machhuara chalak he aur machli fir bhi usi ka intezar kare. vese bhi pratik thik nahi he machhli ka pyar samandar hota he, koi machhuara nahi.

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

भारतीय ब्लॉग्स का संपूर्ण मंच

join india

Blog Mandli

  © Blogger template The Professional Template II by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP