प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ. Blogger द्वारा संचालित.
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है जहां आपके प्रगतिशील विचारों को सामूहिक जनचेतना से सीधे जोड़ने हेतु हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं !

असुविधा: अजनबी मुस्कराहटों और अभेद्य चुप्पियों के बीच

बुधवार, 9 मार्च 2011

( यह कविता सबसे पहले अनुनाद पर छपी थी…फिर तय हुआ कि संकलन का शीर्षक यही हो…अब संकलन आया है तो इस कविता की दुबारा याद आई, संकलन शिल्पायन से आया है…मित्र 011-22326078 से संपर्क कर मंगा सकते हैं)






लगभग अनामन्त्रित

उपस्थित तो रहे हम हर समारोह में
अजनबी मुस्कराहटों और अभेद्य चुप्पियों के बीच
अधूरे पते और गलत नंबरों के बावजूद
पहुंच ही गये हम तक आमंत्रण पत्र हर बार

हम अपने समय में थे अपने होने के पूरे एहसास के साथ
कपड़ों से ज्यादा शब्दों की सफेदियों से सावधान
हम उन रास्तों पर चले जिनके हर मोड़ पर खतरे के निशान थे
हमने ढ़ूंढ़ी वे पगडंडियां जिन्हें बड़े जतन से मिटाया गया था
भरी जवानी में घोषित हुए पुरातन
और हम नूतन की तलाश में चलते रहे...

पहले तो ठुकरा दिया गया हमारा होना ही
चुप्पियों की तेज धार से भी जब नहीं कटी हमारी जबान
कहा गया बड़े करीने से - अब तक नहीं पहचानी गयी है यह भाषा
हम फिर भी कहते ही गये और तब कहा गया एक शब्द- 'खूबसूरत'
जबकि हम खिलाफ थे उन सबके जिन्हें खूबसूरत कहा जाता था
जरूरी था खूबसूरती के उस बाजार से गुजरते हुए खरीदार होना
हमारे पास कुछ स्मृतियां थी और उनसे उपजी सावधानियां
और उनके लिये स्मृति का अर्थ गौरव प्राचीन

एक असुविधा थी कविता हमारे हिस्से
और उनके लिये सीढ़ियां स्वर्ग की
हमें दिखता था घुटनों तक खून और वे गले तक प्रेम में डूबे थे
प्रेम हमारे लिये वजह थी लड़ते रहने की
और उनके लिये समझौतों की...

हम एक ही समय में थे अलग-अलग अक्षांशों में
समकालीनता का बस इतना ही भ्रमसेतु था हमारे बीच
हम सबके भीतर दरक चुका था कोई रूस
और अब कोई संभावना नहीं बची थी युद्ध में शीतलता की

ये युद्ध के ठीक पहले के समारोह थे
समझौतों की आखिरी उम्मीद जैसी कोई चीज नहीं बची थी वहां
फिर भी समकालीनता का कोई आखिरी प्रोटोकाल
कि उन महफिलों में हम भी हुए आमन्त्रित
जहां बननी थी योजनायें हमारी हत्याओं की!

4 comments:

रवीन्द्र प्रभात 9 मार्च 2011 को 11:44 am  

बेहतरीन अभिव्यक्ति !

मनोज पाण्डेय 9 मार्च 2011 को 2:39 pm  

एक बेहतरीन रचना संसार से रूबरू करने हेतु आभार !

वन्दना 9 मार्च 2011 को 3:20 pm  

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (10-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

भारतीय ब्लॉग्स का संपूर्ण मंच

join india

Blog Mandli

  © Blogger template The Professional Template II by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP