प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ. Blogger द्वारा संचालित.
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है जहां आपके प्रगतिशील विचारों को सामूहिक जनचेतना से सीधे जोड़ने हेतु हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं !

रेत का ढांचा समझ न लेना इक पल में न बिखर पाऊंगा

मंगलवार, 5 अप्रैल 2011

चाहो तो धीरज से सुन लो, मुख-भावों को या पहचानो
अपनी बात बता देता हूं, मानो या कि तुम न मानो...!!
******************
जितनी बार मुझे मसलोगे उतना   और निखर आऊंगा
रेत का ढांचा समझ न लेना इक पल में न बिखर पाऊंगा
इस उस की दीवारें रंगते, अखबारों में खबर छपाते
तुम काजल की कोख के जाये, मुख-मुख पे काजल पुतवाते
कलम के कारण राम राम हैं, कलम ने लिक्खा रावण मानों

चाहो तो धीरज से सुन लो, मुख-भावों को या पहचानो
अपनी बात बता देता हूं, मानो या कि तुम न मानो...!!

( शेष फ़िर )
  

  

3 comments:

seema gupta 5 अप्रैल 2011 को 9:55 am  

चाहो तो धीरज से सुन लो, मुख-भावों को या पहचानो
अपनी बात बता देता हूं, मानो या कि तुम न मानो
"apni baat khne ka sahi andaaz"
regards

मनोज पाण्डेय 9 अप्रैल 2011 को 3:57 pm  

आपने प्रब्लेस का मान बढाया है, बधाईयाँ !

ब्रजेश सिन्हा 9 अप्रैल 2011 को 4:01 pm  

जो जिस काबिल है उसे सम्मान और अपमान प्राप्त होता है, अच्छा लिखा है आपने !

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

भारतीय ब्लॉग्स का संपूर्ण मंच

join india

Blog Mandli

  © Blogger template The Professional Template II by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP