प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ. Blogger द्वारा संचालित.
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है जहां आपके प्रगतिशील विचारों को सामूहिक जनचेतना से सीधे जोड़ने हेतु हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं !

खाध्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं

मंगलवार, 19 जुलाई 2011

खाध्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं

जी हाँ दोस्तों देश में मिलावट युक्त खाध्य सामग्री से जनता को बचाने के मामले में जनता के स्वास्थ्य को ध्यान में रख कर खाद्ध अपमिश्रण अधिनियम को व्यापारियों के दबाव में ठंडे बस्ते में डालने के बाद अब नये निर्मित कानून खाध्य सुरक्षा और मानक अधिनियम अब तक लागू नहीं को भी अब तक लागू नहीं किया गया है नतीजन जनता परेशान है और  व्यापारी मद मस्त होकर जनता को लुट रहे हैं ................देश में वर्ष २००६ में तय्यार इस कानून पर जब राष्ट्रपति की मुहर लगी तो इसे कोई लागू करने वाला नहीं था लेकिन जनता के दबाव में अगस्त २००८ में इसे लागु किया गया ..कहने को तो इस कानून में मिलावट करने वालों को सख्त सजा देने का प्रावधान हैं .विशेष नियम बनाये गए है लेकिन इसकी रोकथाम के लियें जो समितियों के गठन का प्रावधान है उन्हें अब तक लागू नहीं किया गया है .राष्ट्रिय और राज्य स्तर पर अब तक कोई कमेटियों का गठन नहीं किया आज्ञा हैं ..अब तक खाध्य सुरक्षा आयुक्तों की घोषणा नहीं की गयी है सलाहकार समितियों का अग्थान नहीं किया गया है ....डेज़िग्नेटेड अधिकारीयों की नियुक्तियां नहीं की गयी है राजस्थान में शुद्ध के लियें युद्ध का नाटक हुआ लेकिन अब तक इस नये कानून के तहत ना तो कोई मुकदमा दर्ज हुआ और ना ही कोई कार्यवाही हुई है ..इस नए कानून में स्तर हीन सामान होने पर ५लाख जुर्माने की सजा है जबकि मिथ्या छाप वाला खाद्य पदार्थ विक्रय करने पर तीन लाख रूपये जुर्माना  है ..भ्रामक विज्ञापन देने और मिलावट युक्त सामग्री बेचने पर दस लाख रूपये का जुर्मानाहै इस तरह से कई मामलों में म्रत्यु दंड तक का प्रावधान है अब इस कानून को लागू करने के बाद भी विधि नियम के अनुसार देश और राज्यों में इसकी क्रियान्विति के लियें समितियों और आयुक्तों का गठन नहीं करना यही दर्शाता है के सरकार व्यापारियों के आगे नत मस्तक है और जनता को मिलावट युक्त भ्रामक विज्ञापनों के माध्यम से बेचे जाने वाले सामानों से होने वाले नुकसान के प्रति सरकार गम्भीर नहीं है .......अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

1 comments:

veerubhai 22 जुलाई 2011 को 1:04 pm  

आईने झूंठ नहीं बोलते ,शीशे फिर भी दरक जातें हैं .अमन का कबूतर ऊंची और ऊंची से भी ऊंची उड़ान भरता ,सिरफिरे उस का रुख नहीं मोड़ सकते .आप अपने शान्ति मिशन पर आगे बढ़ें .
आप अच्छा काम करें जनता का दिल जीतें .बधाई .
अख्तर साहब अच्छा मुद्दा उठाया है .ये सरकार तो तिहाड़ जाने वालों की संख्या बढा रही है .लगता है तिहाड़ विधान सभाई क्षेत्र बनने जा रहा है .देखें किस किस को वहां से टिकट मिलता है .अच्छी जन -समर्पित पोस्ट .

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

भारतीय ब्लॉग्स का संपूर्ण मंच

join india

Blog Mandli

  © Blogger template The Professional Template II by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP