प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ. Blogger द्वारा संचालित.
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है जहां आपके प्रगतिशील विचारों को सामूहिक जनचेतना से सीधे जोड़ने हेतु हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं !

मनोहर बिल्लोरे की कविता : उगने को है

रविवार, 21 अगस्त 2011

साभार: धर्म सिंह जी के ब्लाग से 
एल्यूमीनिम की चूल्हे पर जमी
पिचकी-दचकी मैली सी बटलोई में
खदबदा रहे दाल-चावल, टकराते
पक रहे साथ-साथ,
उछल रहा फेन, उबल रहा पानी
***************
हवा घूम रही साथ लिये, कहीं,
खिचड़ी की सुगंध की वाष्प
ईधन से उधर
स्वच्छंद भड़काती भूख
***************
तो कहीं आटे की लोईयों पर
पर पड़ रही हथेलियों की थाप
लगभग गोल आकार पा, सिंक रहीं
जर्जर तवे पर मोटी-सोंटी रोटियां
***************
दो चार साथ जायेंगी
गमछे में लिपट, काम पर
जारी है मजूरी पर जाने की
स्फूर्त तैयारी
***************
दातून है किसी मुंह में
ईधर-उधर टहलती हुई
किसी हाथ में है डिब्बा
सिर पर उड़ेलता पानी
***************
दूर कहीं निर्जन से लौटता
होकर फारिग, आ रहा,
बेरंग डिब्बा थामे कोई हाथ
***************
आवाजें... आवाजें... आवाजें
जोर-शोर की, आत्मीय,
छटपटाहट से भरी आवाजें...
प्रदूषक शोर नहीं कहीं
***************
पड़ोस के निर्माणाधीन भवन का
आंगन... छेड़-छाड़, बतकहियां
मजाक, हॅंसी-ठट्ठा, उत्साह और
उमंग की तरंग,
मिली-घली हवा में...
आवाजें...
***************
जारी है,
एक और कलरव
सुबह-सुबह...
***************
देर से सोकर,
उठने वाला देर से
पैदाईशी अलाल, कामटालू
मैं’- उठ गया आज जल्दी
आलस्य, उदासी और अवसाद से
भिड़, परास्त कर उन्हें, कुछ
कर गुजरने की, जाग रही है
इच्छा, टहलते, उबासी लेते,
आंखें मीड़ते
***************
लाल, बड़ा गोला
सूरज का, आकाश में
उठा आ रहा
ऊपर और ऊपर...
    कविता: मनोहर बिल्लोरे
    1225,जे.पी. नगर,अधारताल
     जबलपुर, फ़ोन:-08982175385
    
    

2 comments:

Bhushan 21 अगस्त 2011 को 5:59 pm  

सशक्त बिंबों से सधी हुई सुंदर कविता.

शालिनी कौशिक 21 अगस्त 2011 को 9:56 pm  

सुन्दर भावाभिव्यक्ति.आपको कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें
आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

भारतीय ब्लॉग्स का संपूर्ण मंच

join india

Blog Mandli

  © Blogger template The Professional Template II by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP