प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ. Blogger द्वारा संचालित.
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है जहां आपके प्रगतिशील विचारों को सामूहिक जनचेतना से सीधे जोड़ने हेतु हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं !

हास-परिहास: सामूहिक ब्लाग की बागुड़ लांघते सांड़ !!

शनिवार, 19 फ़रवरी 2011

                                 मुहल्ले-मुहल्ले,नुक्कड़-नुक्कड़, एसोसिएशन बनने की आहट मिल रही है.  ब्लाग  विरोधी ताक़तें कह रहीं हैं - कि  एक घर के चार लोग चार एसोसिएशन बना लेंगे तब देखना मज़ा आएगा.
 कोई कदम उठाएंगे वो कदम क्या होगा ये कील कुमार बताएंगे  जिनके कई ब्लाग परित्यक्ता की ज़िंदगी काट रहें हैं कुछ बेचारे ब्लागर (अपने ब्लाग पर पाठकों के अभाव में) खद्योतित प्रकाश बांट रहे हैं. वैसे. एक ब्लागर जी के  ब्लाग रूपी नुक्कड़ में सांड़ घुस गया  पता चला कि हुजूर खुद ने बछड़े को पाला पोसा बड़ा सांड़ बनाया और उसके साउथ-एवेन्यू-माल पे त्रिशूल गुदवा  दिया था. उसी बछड़े ने सींग उठाए  तो अपने ब्लागर भाई बैल्ट कस के कानी-हाउस में बेड़ आए उसे . इस घटना से प्रभावित   कई लोगों ने स्वातंत्र्य गीत गायन अभ्यास शुरु कर दिया.ताकि उनके मालिकाना हक़ वाले सामूहिक ब्लाग को बचाया हा सके. सो भाइयो कल ही सूत जी से भैंट हुई थी वे शौनकादि ऋषियों को समझा रहे थे:-"ऋषियो, सब कुछ करो पर सांड़ों और सांपों पे कड़ी नज़र रखो. सांप को आस्तीन से बाहर न जाने दो. बछडों को सांड़ मत बनने दो खेती कराओ बस खेती. "
साभार : टेढ़ी-मेढ़ी बातें


       सुना तो यहां तक गया है कि- "सामूहिक-ब्लॉग पे आने के लिए जो पीले चावल भेजे जा रहे हैं उसकी वज़ह से खाने के लिए चावलों  की कीमत में बढ सकतीं हैं. प्याज ने  सरकार की ऑंखें  गीली की थीं अब चावल लाइ न लुटवा दें इस भय से निपटने मनमोहन जी मैडम से मिल ने जाएंगे खबर पक्की है. !!"
 इधर अपने धान के देश पर कड़ी नज़र रखी जा रही है. सूत्र बताते हैं कि आमंत्रण हेतु प्रयोग में आने वाले चावलों की आपूर्ती उधर से ही हो रही है.मित्रो इस घड़ी में जब हिंदी ब्लाग चहुं ओर महत्व साबित करने में लगे हैं तब सांड़ों का आतंक विचारणीय है. गुरु परसाई की क़सम वे होते तो अकल ठिकाने लगा देते. खैर जो भी हो सब पढ़े लिखे बुद्धिवान हैं तो इस पशु वृत्ति से नि:वृत्ति के साधन खुद खोजने होंगे. इस होली के पहले.ताकि सदभावना कायम रहे

24 comments:

रवीन्द्र प्रभात 19 फ़रवरी 2011 को 8:20 am  

हा हा हा गिरीश भाई, साझा ब्लॉग-साझी संस्कृति पर एक वेहतर व्यंग्य हेतु बधाईयाँ !

ब्रजेश सिन्हा 19 फ़रवरी 2011 को 9:11 am  

स्वस्थ-सुन्दर और सार्थक व्यंग्य है आपका, अच्छा लगा !

अविनाश वाचस्पति 19 फ़रवरी 2011 को 10:05 am  

सच की साहसिक अभिव्‍यक्ति को सलाम। पर आप भीतर की खबर कहां से निकाल लाए। खैर ...

शिवम् मिश्रा 19 फ़रवरी 2011 को 11:44 am  

गिरीश दादा वार्ताकार है ... किसी ना किसी से वार्ता कर अन्दर की बात ले आये !
जय हो दादा की !

GirishMukul 19 फ़रवरी 2011 को 11:59 am  

इलाज़ के पहले एक्सरे का कमाल है

गीतेश 19 फ़रवरी 2011 को 12:24 pm  

व्यंग्य बढ़िया है , अच्छा लगा पढ़कर !

पूर्णिमा 19 फ़रवरी 2011 को 12:27 pm  

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

ZEAL 19 फ़रवरी 2011 को 3:52 pm  

बढ़िया व्यंग किया है । सद्भावना बनी रहनी चाहिए।

एस.एम.मासूम 19 फ़रवरी 2011 को 4:30 pm  

मैं तो भाई अपने जौनपुर ब्लॉगर असोसिएसन पर किसी को चावल नहीं भेजता. जौनपुर की मीठी इमरती ले के आना होता है खुद, वोह भी बेनेराम की दूकान वाली.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ 19 फ़रवरी 2011 को 5:13 pm  

इस फोटो में कौन से दो ब्‍लागर भई शक्ति परीक्षण कर रहे हैं, कृपया यह रहस्‍योदघाटन भी करने का कष्‍ट करें।

---------
ब्‍लॉगवाणी: ब्‍लॉग समीक्षा का एक विनम्र प्रयास।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) 19 फ़रवरी 2011 को 5:14 pm  

बहुत बढ़िया ढंग से आपने नूराकुश्ती को जमाया है!

anu 19 फ़रवरी 2011 को 5:16 pm  

बुरा न मानो होली है!

राज भाटिय़ा 19 फ़रवरी 2011 को 10:01 pm  

हे राम यह सांड भी ना...

Minakshi Pant 20 फ़रवरी 2011 को 11:12 pm  

बहुत खूब ये भी न हो तो जीवन में उमंग कहाँ ?
सही व्यंग |

तन्‍वी 21 फ़रवरी 2011 को 5:45 pm  

आप मजाक बना लीजिए, अभी पता लगेगा। क्‍योंकि गायब नहीं हुए हैं सुशील कुमार सर, अपना कविता संग्रह लेकर आ रहे हैं तुम्‍हारे शब्‍दों से अलग। तब सब के मुंह और कलम दोनों बंद हो जाएंगे। मैं उनकी कविताओं की फैन हूं!

Patali-The-Village 27 मार्च 2011 को 4:11 am  

सच की साहसिक अभिव्‍यक्ति |

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

भारतीय ब्लॉग्स का संपूर्ण मंच

join india

Blog Mandli

  © Blogger template The Professional Template II by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP